किसान-सरकार बातचीत में नहीं बनी राह, आज दिल्ली कूच को लेकर बनेगी किसानों की नई रणनीति

Sahab Ram
2 Min Read

 

 

Yuva haryana: आज, पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली कूच को लेकर अपनी रणनीति बनाएंगे। इससे पहले, 18 फरवरी को हुई बातचीत में केंद्र सरकार ने 5 फसलों पर MSP देने का प्रस्ताव रखा था, जिसे किसान नेता जगजीत डल्लेवाल ने खारिज कर दिया।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार सभी फसलों पर MSP की गारंटी दे तो आंदोलन खत्म करने को तैयार हैं।किसान नेता जगजीत सिंह डल्लेवाल ने कहा कि सरकार की नीयत में खोट है। सरकार हमारी मांगों पर गंभीर नहीं है।

हम चाहते हैं कि सरकार 23 फसलों पर MSP यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य का फॉर्मूला तय करे। सरकार के प्रस्ताव से किसानों को कोई लाभ नहीं होने वाला है।

 

 

 

किसानों ने पिछले 7 दिनों से शंभू बॉर्डर पर कूच डाला हुआ है। आंदोलनरत किसानों और सरकार के बीच 18 फरवरी को हुई चौथी दौर की बातचीत में सरकार ने 5 फसलों पर MSP देने का प्रस्ताव दिया था।

जगजीत डल्लेवाल ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा प्रस्ताव खारिज करने के बाद, 20 फरवरी को रणनीति बनाएंगे और 21 फरवरी को दिल्ली कूच करेंगे।

किसानों की मांगें
किसान नेता ने कहा कि सरकार का प्रस्ताव नकारात्मक है और सभी फसलों पर MSP की गारंटी चाहिए। उनका कहना है कि दाल और बाकी फसलों पर MSP देने का वादा किसी भी स्थिति में कारगर नहीं होगा।

किसानों ने सरकार के प्रस्ताव को नापतोल किया और उनका कहना है कि सरकार की नीयत में खोट है और वह किसानों की मांगों को लेकर गंभीर नहीं है।

किसानों ने बताया है कि अगर सरकार ने उनकी मांगें पूरी नहीं की तो वे अगले कदम के रूप में इस्तीफा देने का विचार करेंगे।

हरियाणा सरकार ने कृषि प्रदेश में इंटरनेट सेवाओं पर रोक बढ़ा दी है और इसमें 7 जिलों को शामिल किया है। यह कदम आंदोलन को बढ़ा सकता है और सरकार को दबाव महसूस करने पर मजबूर कर सकता है।

 

Share This Article
Leave a comment