हरियाणा में सविता हत्याकांड में बड़ा खुलासा, इस वजह से की हत्या, अब खुला राज

Sahab Ram
4 Min Read

हरियाणा के रेवाड़ी जिले के गांव बिहारीपुर में शनिवार को मिले 25 वर्षीय युवती के शव की पहचान हंसनगर कॉलोनी निवासी सविता के रूप में हुई है। जिस हालत में सविता का शव मिला, उसे देखते हुए हत्या की आशंका जताई जा रही है।

बताया जा रहा है कि सविता के साथ काम करने वाली कंपनी के ही एक युवक ने उसकी गला दबाकर हत्या कर दी और शव को फेंक दिया. पूरा मामला पैसों के लेनदेन से जुड़ा बताया जा रहा है.

पुलिस ने भिवानी निवासी अरुण व अन्य के खिलाफ अपहरण व हत्या का मामला दर्ज कर लिया है।

रामपुरा थाना प्रभारी मुकेश ने बताया कि मूलरूप से राजस्थान के अलवर जिले की रहने वाली सविता शादीशुदा थी। वह रेवाडी में एक हर्बल उत्पाद बनाने वाली कंपनी में काम करती थी। उसी कंपनी में भिवानी का रहने वाला अरुण भी काम करता था।

बताया जा रहा है कि अरुण ने कुछ माह पहले कारोबार करने के नाम पर सविता से एक लाख रुपये उधार लिए थे।

बताया जा रहा है कि अरुण ने पैसे देने के बहाने सविता को बुलाया था। इसके बाद उसकी गला दबाकर हत्या कर दी गई।

शनिवार को सविता का शव संदिग्ध परिस्थितियों में बिहारीपुर गांव में मिला। उसके शव को कुत्ते नोच रहे थे।

हत्या वाले दिन सविता ने किसी अनहोनी की आशंका जताई थी।

सविता के पति के दोस्त नरेंद्र ने पुलिस को बताया है कि उसके पास सविता का फोन आया था। सविता ने कहा था कि वह अपनी लोकेशन भेज रही है, वह तुरंत यहां पहुंच जाए। लोकेशन ढूंढने के 5 मिनट के अंदर नरेंद्र वहां पहुंच गए।

नरेंद्र के मुताबिक जब वह मौके पर पहुंचा तो सविता वहां नहीं मिली। नरेंद्र ने फोन किया तो काफी देर बाद सविता ने फोन उठाया। सविता को चिल्लाते हुए सुना जा सकता है। सविता बार-बार किसी अरुण का नाम ले रही थी।

सविता हत्याकांड के मुख्य आरोपी अरुण ने जहर निगल लिया। जहर निगलने की सूचना पर अरुण को रोहतक के पीजीआई में भर्ती कराया गया। चिकित्सकों ने जांच के बाद अरुण की हालत स्थिर बताई है। अभी तक यह पुष्टि नहीं हो पाई है कि क्या सच में अरुण ने जहर निगला था या केवल अफवाह उड़ाई थी।

राजस्थान के झुंझुनू जिले की रहने वाली सविता की अरुण ने 2 फरवरी को गला दबाकर हत्या कर दी थी। सविता की लाश अगले दिन 3 फरवरी को रेवाड़ी के गांव बिहारीपुर के जंगलों में मिली थी।

हत्या के बाद से ही आरोपी अरुण फरार चल रहा था। आरोपी के खिलाफ रामपुरा थाना में मर्डर का केस दर्ज किया गया था। अरुण पुलिस से बचने के लिए भागता रहा।

आरोपी ने सविता का मोबाइल भी गायब कर दिया था और खुद का फोन वह घर ही रखकर फरार हुआ था। जिससे अरुण को पकड़ना पुलिस के लिए भी मुश्किल हो गया था।

पुलिस टीमों ने अरुण के चरखी-दादरी स्थित घर पर भी दबिश देकर परिजनों से पूछताछ की थी। बुधवार को अरुण ने चरखी-दादरी में ही किसी जगह पर जहरीला पदार्थ निगल लिया। वारदात में प्रयोग की गई गाड़ी झज्जर जिले से बरामद हो चुकी है। पुलिस का कहना है कि जांच जारी है

 

Share This Article
Leave a comment