हरियाणा में हुक्का बार पर प्रतिबंध,युवाओं को नशे से बचाने के लिए सरकार का बड़ा कदम

Sahab Ram
3 Min Read

Yuva haryana : हरियाणा सरकार ने प्रदेश में हुक्का बार पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है। यह कदम युवाओं को नशे से बचाने और उनके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए उठाया गया है। 26 फरवरी 2024 को हरियाणा विधानसभा में गृह मंत्री अनिल विज द्वारा प्रस्तुत विधेयक को पारित कर दिया गया। इस विधेयक के अनुसार, अब प्रदेश में किसी भी भोजनालय, होटल, रेस्टोरेंट या अन्य स्थान पर हुक्का परोसना या हुक्का बार संचालित करना गैरकानूनी होगा।

उल्लंघन करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई:

विधेयक के उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। अगर किसी होटल, रेस्टोरेंट या अन्य भोजनालय में हुक्का परोसा जाता है, तो होटल-रेस्टोरेंट मालिक को 5 साल तक की सजा और 5 से 10 हजार रुपये तक जुर्माना देना होगा।

परंपरागत हुक्के पर नहीं रोक:

हालांकि, सरकार ने गांवों और चौपालों में आमतौर पर परंपरागत हुक्कों के इस्तेमाल पर कोई रोक नहीं लगाई है। ऐसे में प्रदेश के बुजुर्ग चौपाड़ में देसी हुक्के का आनंद लेते हुए देश-प्रदेश और सामाजिक चर्चा में भाग ले सकते हैं।

हुक्का बार में परोसी जाती हैं नशीली दवाएं:

हरियाणा सरकार ने हुक्का बैन करने का कारण यह बताया कि हुक्का बार में जड़ी बूटियों के नाम पर निकोटिन युक्त तंबाकू के साथ प्रतिबंधित नशीली दवाएं परोसी जाती हैं, जो धुएं और पानी के माध्यम से लोगों के शरीर में पहुंचता है। इसका धुआं इसे पीने वाले लोगों को ही नहीं, बल्कि आसपास के लोगों पर भी प्रभाव डालता है।

गैर-जमानती अपराध:

सरकार ने इस अपराध को गैर-जमानती कैटेगरी में रखा है। सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद (विज्ञापन प्रतिषेध और व्यापार तथा वाणिज्य, उत्पादन, आपूर्ति और वितरण विनियमन) हरियाणा संशोधन विधेयक 2024 को विधानसभा ने भी मंजूरी दे दी है।

सरकार का दावा है कि कई रिपोर्ट से पता चला है कि होटल-रेस्टोरेंटों के हुक्का बारों में निकोटिन युक्त तंबाकू परोसा जाता है। यह युवाओं के स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक है। हुक्का बार पर प्रतिबंध लगाने का यह कदम युवाओं को नशे से बचाने और उनके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

Share This Article
Leave a comment