हरियाणा में किसानों के लिए बुरी खबर , सरकार ने बारिश- ओलावृष्टि के मुआवजे पर लगाई जमीन की शर्त

Sahab Ram
2 Min Read

Yuva Haryana : हरियाणा में पिछले शनिवार को हुई बेमौसमी बारिश और ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को हरियाणा सरकार की एक शर्त ने चिंता में डाल दिया है। हरियाणा क्षतिपूर्ति पोर्टल पर 5 एकड़ की शर्त ने किसानों के सामने मुश्किल खड़ी कर दी है। किसान सिर्फ इतने नुकसान की रिपोर्ट ही क्षतिपूर्ति पोर्टल पर अपलोड कर पा रहे हैं। प्रदेश सरकार ने बेमौसमी बारिश और ओलावृष्टि से हुए नुकसान की रिपोर्ट क्षतिपूर्ति पोर्टल पर अपलोड करने के लिए 15 मार्च तक का ही समय दिया है। इसके बावजूद, किसानों में सरकार के खिलाफ आक्रोश बना हुआ है।

सीएम मनोहर लाल ने किसानों से अपील करते हुए कहा है कि वे जल्द- से- जल्द फसलों में हुए नुकसान की रिपोर्ट क्षतिपूर्ति पोर्टल पर अपलोड करें। किसानों का कहना है कि जिन किसानों का 5 एकड़ से ज्यादा नुकसान हुआ है, उन्हें पोर्टल पर बहुत दिक्कत आ रही है। असंध से कांग्रेस विधायक शमशेर सिंह गोगी ने कहा कि सरकार को 5 एकड़ की सीमा हटाकर क्षतिपूर्ति पोर्टल को फिर से डिजाइन करना चाहिए। सरकार को किसानों को वास्तविक एकड़ जमीन अपलोड करने की अनुमति देनी चाहिए, जहां उन्हें नुकसान हुआ है।

एक किसान ने बताया कि मेरे पास 25 एकड़ में गेहूं की फसल है और बारिश व ओलावृष्टि के चलते अधिकांश फसल में नुकसान पहुंचा है।
असंध से कांग्रेस विधायक शमशेर सिंह गोगी ने कहा कि सरकार को 5 एकड़ की सीमा हटाकर क्षतिपूर्ति पोर्टल को फिर से डिजाइन करना चाहिए। सरकार को किसानों को वास्तविक एकड़ जमीन अपलोड करने की अनुमति देनी चाहिए, जहां उन्हें नुकसान हुआ है। सरपंच या नंबरदार की उपस्थिति में भौतिक गिरदावरी हो और जल्द से जल्द प्रभावित किसानों को मुआवजा राशि दी जानी चाहिए।

Share This Article
Leave a comment