\u092E\u0902\u0921\u0940 \u092E\u0947\u0902 \u0915\u093F\u0938\u093E\u0928 \u0915\u094B \u0928\u0939\u0940\u0902 \u0939\u094B\u0928\u093E \u092A\u0921\u093C\u0947\u0917\u093E \u092A\u0930\u0947\u0936\u093E\u0928, \u092E\u093F\u0932\u0947\u0917\u0940 \u092F\u0947 \u0938\u092D\u0940 \u0938\u0941\u0935\u093F\u0927\u093E\u092F\u0947\u0902

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. खेत-खलिहान

मंडी में किसान को नहीं होना पड़ेगा परेशान, मिलेगी ये सभी सुविधायें

Yuva Haryana, Chandigarh हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ बनवारी लाल ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के किसानों से सरसों के बीज की सुचारू और बाधा मुक्त खरीद के लिए सभी आवश्यक प्रबंध कर रही है । सरसों के बीज के कुल उत्पादन का 25 प्रतिशत भाग नेफेड की ओर...


मंडी में किसान को नहीं होना पड़ेगा परेशान, मिलेगी ये सभी सुविधायें

Yuva Haryana, Chandigarh

हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ बनवारी लाल ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के किसानों से सरसों के बीज की सुचारू और बाधा मुक्त खरीद के लिए सभी आवश्यक प्रबंध कर रही है । सरसों के बीज के कुल उत्पादन का 25 प्रतिशत भाग नेफेड की ओर से भारत सरकार की मूल्य समर्थन योजना के तहत खरीदा जाएगा और सरसों के बीज की शेष मात्रा राज्य सरकार की ओर से खरीदी जाएगी।

उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड ने मंडियों में सड़क, शौचालय, पेयजल, प्रकाश आदि सभी बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था की है । राज्य की सभी मार्केट कमेटियों को इस संबंध में आवश्यक निर्देश पहले ही जारी किए जा चुके हैं ।

इसके अलावा, राज्य के किसानों से सरसों के बीज की खरीद के लिए हैफेड और हरियाणा राज्य भंडारण निगम ( एचएसडब्ल्यूसी ) दवारा पैकिंग सामग्री , भंडारण स्थान , धन , श्रम और परिवहन आदि की व्यवस्था की जा रही है।

सहकारिता मंत्री ने बताया कि रबी 2020-21 में 02, मार्च, 2020 तक कुल  3,86,103 किसानों ने

17.20 लाख एकड़ क्षेत्र में सरसों की फसल को कवर करने के लिए ‘मेरी फसल मेरा ब्योरा ‘ पोर्टल पर पंजीकृत किया है ।

उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार ने राज्य के किसानों को बाधा मुक्त और योजनाबद्ध खरीद के लिए आवक का निर्धारण करके लाभान्वित करने का इरादा किया है । सभी किसानों को ई – खरीद पोर्टल के माध्यम से उत्पन्न गेट पास दिए जाएंगे । सरसों की खरीद के विरुद्ध भुगतान सीधे किसानों के बैंक खाते में आरटीजीएस / एनईएफटी के माध्यम से ई – खरीद पोर्टल से किया जाएगा ।