\u0939\u093F\u0938\u093E\u0930-\u091F\u094B\u0939\u093E\u0928\u093E \u0930\u094B\u0921 \u092A\u0930 \u0916\u0947\u0924\u094B\u0902 \u092E\u0947\u0902 \u0932\u0917\u0940 \u0906\u0917, 25 \u090F\u0915\u0921\u093C \u0915\u093E \u092D\u0941\u0938\u093E \u091C\u0932\u0915\u0930 \u0939\u0941\u0906 \u0916\u093E\u0915

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. खेत-खलिहान

हिसार-टोहाना रोड पर खेतों में लगी आग, 25 एकड़ का भुसा जलकर हुआ खाक

Naval Singh, Yuva Haryana Tohana, 28 April, 2019 बिजली के पोल, बिजली की लटकती तारें किसानों के लिए बेहद परेशानी का विषय बना हुआ है। इससे लगनी वाली आग किसानों को प्रतिदिन कहीं न कहींं प्रदेश में नुकसान पहुचा रही है। जिसपर बिजली विभाग लापरवाह है या किसानों की किस्मत...


हिसार-टोहाना रोड पर खेतों में लगी आग, 25 एकड़ का भुसा जलकर हुआ खाक

Naval Singh, Yuva Haryana

Tohana, 28 April, 2019

बिजली के पोल, बिजली की लटकती तारें किसानों के लिए बेहद परेशानी का विषय बना हुआ है। इससे लगनी वाली आग किसानों को प्रतिदिन कहीं न कहींं प्रदेश में नुकसान पहुचा रही है। जिसपर बिजली विभाग लापरवाह है या किसानों की किस्मत में ही नुकसान लिखा है, सोचने का विषय है, क्योकि आग का कारण बिजली की स्पार्क बहुत से मामलों में देखने को मिल रहा है।

ऐसा ही एक मामला टोहाना में फिर से सामने आया है जिसमें हिसार टोहाना रोड पर स्थित दो किसान आजम सिंह व जोरावर सिंह की लगभग 25 एकड़ भूमि में भुसा स्वाहा हो गया। जिसको लेकर वो बेहद परेशानी में आ गए हैं, उन्होनें बताया कि इसकी वजह से उनका हजारों को नुकसान हुआ है।

हिसार-टोहाना रोड पर खेतों में लगी आग, 25 एकड़ का भुसा जलकर हुआ खाक

पीड़ित किसानों का यह कहना है उनके खेत में लगा बिजली का पोल इसका मुखय कारण है। पहले भी उन्हें इसका शिकार होना पड़ा है. जिसके लिए उन्होनें बिजली विभाग को चेताया भी है, लेकिन कोई हल नहीं हुआ। जिसकी वजह से उन्हें नुकसान सहन करना पड़ रहा है।

उन्होनें सरकार से गुहार लगाई है इस नुकसान की भरपाई करते हुए उन्हें मुआवजा दिया जाए, वहीं उनहोनें बिजली के पोल को उनके खेतों से हटाए जाने की मांग भी की है। गेहूं सीजन में बिजली के तार किसानों के लिए भारी परेशानी का सबब बन गए हैं, समय रहते सरकार व विभाग द्वारा इस पर संज्ञान लेकर जरूरी कदम उठाए जाने चाहिए, जिससे अन्नतदाता को मानसिक व आर्थिक परेशानी से बचाया जा सके।