Yuva Haryana
Mata Vaishno Devi temple Stampede- माता वैष्णो देवी मंदिर हादसे में 12 लोगों की मौत, 20 से ज्यादा लोग घायल
 

Mata Vaishno Devi temple Stampede- नए साल पर माता वैष्णो देवी धाम में भगदड़ मचने के कारण 12 श्रद्धालुओं की मौत हो गई है. मृतकों में से 11 की पहचान कर ली गई हैं, जिसमें उत्तर प्रदेश के छह लोगों की पहचान की गई है. घायलों को बाणगंगा अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है. 

जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu Kashmir) के कटरा स्थित माता वैष्‍णो देवी के धाम (Vaishno Devi Stampede) में शुक्रवार और शनिवार की दरमियानी रात भगदड़ मचने से 12 लोगों की मौत हो गयी थी, तो 20 से ज्‍यादा लोग घायल हुए थे. यह हादसा देर रात करीब ढाई बजे हुआ था.

Vaishno-Devi-Stampede

घायलों के सामने आए नाम
नाम                    शहर का नाम
ऋषिकेश(23)             मुंबई
विकास तिवारी(35)      मुंबई
सुमित(29)                 पठानकोट, पंजाब
आयुष(25)                 चन्नी, जम्मू
कपिल(25)                 दिल्ली
नितिन गर्ग(30)            गंगा नगर, राजस्थान
अज्ञात(35)           
किरन(18)                     हरियाणा
आशीष कुमार जायस(25)     प्रयागराज, यूपी
भवर लाल पाटिदा(47)        मंदसौर, एमपी
साहिल कुमार(22)            आरएस पुरा, जम्मू
अज्ञात(25)
अधाया महाजन(16)          चन्नी हिम्मत
प्रशांत हाडा(30)              जयपुर, राजस्थान
सरिता(42)                     दिल्ली


अस्पताल प्रशासन से मिली मृतकों की सूची 
1. धीरज कुमार (25) नोशेरा राजोरी जम्मू-कश्मीर 
2. स्वेता सिंह (35) पत्नी विक्रम सिंह गाजियाबाद 
3. धरमवीर सिंह साला पुर सहारनपुर यूपी 
4. विनीत कुमार पुत्र वहीरपार सिंह सहारनपुर यूपी 
5. डा. अर्जुन प्रताप सिंह पत्र सतप्रकाश सिंह गोरखपुर यूपी 
6. विनय कुमार (24) महेश चंद्र बदरपुर दिल्ली 
7. सोनू पांडे पुत्र नरेंद्र पांडे बदरपुर दिल्ली 
8. ममता पत्नी सुरेंद्र बीरी झज्जर हरियाणा 

इस हादसे में हरियाणा के झज्जर की महिला ने भी जान गंवाई है. मृतका की पहचान झज्जर जिले के बेरी इलाके की रहने वाली 38 साल की ममता के रूप में हुई है. वह तीन दिन पहले अपने 19 साल के बेटे आदित्य के साथ माता वैष्णो देवी के दर्शन करने के लिए गई थी.

ममता और उसका बेटा नव वर्ष की पूर्व संख्या पर माता के दर्शन करने थे. वहीं, ममता के पड़ोसियों ने बताया कि दोनों दर्शन कर रात ढाई बजे के बाद वापस आ रहे थे, तभी भगदड़ मची और आदित्य अपनी मां से बिछड़ गया. इस बीच ममता भगदड़ का शिकार हो गई और उसकी मौके पर ही मौत हो गई. जबकि आदित्य सकुशल है.

Vaishno-Devi-Stampede 333

कानपुर से मां वैष्णो देवी का दर्शन करने गए जीजा-साले की भगदड़ मचने से मौत हो गई. इनकी पहचान पनकी गंगागंज के रहने वाले महेंद्र और बिधनू काकाेरी के रहने वाले नरेंद्र कश्यप के रूप में हुई है. दोनोंं आठ-नौ लोगों के साथ वैष्णो देवी दर्शन करने गए थे. दोनों लोग रिश्ते में जीजा साले थे. कानपुर के पनकी थाना क्षेत्र के अन्य छह लोगों के साथ गए थे. साथ गए लोगों ने सुबह फोन कर घर पर दोनों की हादसे में मौत की जानकारी दी.

जम्मू-कश्मीर में मां वैष्णो देवी धाम पर हुई भगदड़ में गाजियाबाद की रहने वाली श्वेता सिंह की भी मौत हो गई है. श्वेता अपनी बड़ी बहन के साथ वैष्णो देवी के दर्शन करने के लिए गई थीं. उनकी मौत की सूचना मिलते ही बड़े भाई राकेश कुमार सिंह जम्मू कश्मीर के लिए रवाना हो गए हैं. वह श्वेता के शव को लाने गए हैं.

Vaishno-Devi-Stampede 44444

मिली जानकारी के मुताबिक, श्वेता सिंह गाजियाबाद के वसुंधरा के वार्ता लोक सोसाइटी में रहती हैं. उनके पति मर्चेंट नेवी में जॉब करते हैं और खुद श्वेता भी वर्किंग हैं. श्वेता कोठारी एसोसिएट्स नाम की कंपनी में बतौर इंटीरियर डिजाइनर काम करती हैं

माता वैष्‍णो देवी मंदिर भवन में साल के पहले दिन मची भगदड़ में 12 लोगों की मौत हो गई। इस हादसे में जान गंवाने वालों में सहारनपुर के भी दो युवक शामिल हैं। वैष्णो माता भवन में शनिवार तड़के मची भगदड़ सहारनपुर के नकुड़ के गांव साल्हापुर के भी दो युवकों की मौत हो गई। विगत गुरुवार को गांव साल्हापुर के विनीत पुत्र बिरम और धर्मवीर कोरी पुत्र सोरण कार से अपने चार साथियों के साथ माता वैष्णो देवी गए थे। शनिवार तड़के माता के भवन पर मची भगदड में विनीत व धर्मवीर की भी मौत हो गई।

Vaishno-Devi-Stampede33333

झज्जर : वैष्णो देवी माता के दरबार के बाहर मची भगदड़ मेें जो लोग मौत के आगोश में समा गए, उनमें झज्जर जिले के सब-डिवीजन बेरी की ममता भी शामिल है। आस-पड़ोस के लोगों की माने तो ममता अपने बेटे आदित्य के साथ 2 दिन पूर्व ही माता वैष्णो देवी के दर्शन करने गई थी।

बताया गया है कि 31 दिसम्बर की रात मां-बेटा दोनों मां वैष्णो देवी के दर्शन हेतु कतार में लगे थे लेकिन इससे पहले वे दर्शन कर पाते, भवन परिसर में भगदड़ मच गई और काल का ग्रास बन गई। जैसे ही ममता की मौत की सूचना बेरी के बैठाण पाने में पहुंची, पूरे कस्बे में मातम छा गया।