\u092C\u0939\u093E\u0926\u0941\u0930\u0917\u095D \u092E\u0947\u0902 \u090F\u0915 \u0938\u093E\u0925 \u092A\u093E\u0902\u091A \u0936\u0935\u094B\u0902 \u0915\u093E \u0939\u0941\u0906 \u0905\u0902\u0924\u093F\u092E \u0938\u0902\u0938\u094D\u0915\u093E\u0930, \u0939\u0930 \u0915\u093F\u0938\u0940 \u0915\u0940 \u0906\u0902\u0916\u0947\u0902 \u0939\u094B \u0917\u0908 \u0928\u092E

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. अनहोनी

बहादुरगढ़ में एक साथ पांच शवों का हुआ अंतिम संस्कार, हर किसी की आंखें हो गई नम

Pradeep Dhankhar Yuva Haryana, Jhajjar बहादुरगढ़ के आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र में 6 दिन पहले हुए भयानक हादसे वाली जगह पर सर्च ऑपरेशन पूरा कर लिया गया है। क्षतिग्रस्त फैक्ट्रियों का मलबा पूरी तरह से हटा दिया गया है। मगर फिर भी दो श्रमिकों के शवों तक के अवशेष भी नहीं...


बहादुरगढ़ में एक साथ पांच शवों का हुआ अंतिम संस्कार, हर किसी की आंखें हो गई नम

Pradeep Dhankhar

Yuva Haryana, Jhajjar

बहादुरगढ़ के आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र में 6 दिन पहले हुए भयानक हादसे वाली जगह पर सर्च ऑपरेशन पूरा कर लिया गया है। क्षतिग्रस्त फैक्ट्रियों का मलबा पूरी तरह से हटा दिया गया है। मगर फिर भी दो श्रमिकों के शवों तक के अवशेष भी नहीं मिल सके । वही हादसे में मलबे के नीचे से मिले एक श्रमिक के पूरे शव तथा दो या दो से अधिक श्रमिकों के शवों के अवशेषों का 5 श्रमिकों के परिजनों ने सामूहिक रूप से अंतिम संस्कार कर दिया। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की उपस्थिति में बहादुरगढ़ के रामबाग में अंत्येष्टि की गई। मलबे से मिले लोगों के क्षत-विक्षत शवों के प्रत्येक अंग का डीएनए टेस्ट करवाया गया और सामूहिक रूप से उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

हम आपको बता दें कि इस हादसे में 8 लोगों की मौत की पुष्टि प्रशासन द्वारा की गई थी और 2 श्रमिक अभी तक लापता बताए जा रहे थे। ऐसे में घटनास्थल से मिले क्षत-विक्षत शवों के अंगों का अलग-अलग डीएनए टेस्ट करवाया गया है। हो सकता है कि यह शव 2 लोगों से ज्यादा के हो सकते हैं। 5 लोगों के शवों का पोस्टमार्टम करवाकर शव पहले ही उनके परिजनों को सौंप दिए गए थे।

दुर्घटना स्थल से क्षतिग्रस्त फैक्ट्रियों का मलबा हटाने की कार्रवाई भी पूरी कर ली गई है। हादसे के बाद घायलों में से 30 लोगों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। वहीं पांच घायलों का इलाज अब भी अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है। हादसे के बाद प्रशासन भी सतर्क दिखाई दे रहा है सहायक श्रम आयुक्त की ओर से दुर्घटनास्थल के पास स्थित कुल 14 फैक्ट्री मालिकों को नोटिस जारी किए गए हैं। जिनमे आठ फैक्ट्रियों के मालिकों को एम्पलाई कंपनसेशन एक्ट 1923 एक्ट की धारा 10 ए और 10 बी के तहत नोटिस जारी किए गए हैं और साथ ही 6 फैक्ट्रियों के मालिकों को धारा 10 बी के तहत नोटिस जारी किया गया है। इसके अंतर्गत यदि फैक्ट्री मालिकों की ओर से श्रमिकों व उनके आश्रितों को मुआवजा नहीं दिया जाता तो उन पर श्रम कानून के तहत स्थानीय अदालत के साथ-साथ श्रम विभाग की अदालत में भी केस चलाया जाएगा।

जिला उपायुक्त जितेंद्र दहिया ने इस पूरे हादसे की न्यायिक जांच के आदेश एसडीएम तरुण पावरिया को करने के लिए अधिकृत किया है। साथ ही उपायुक्त का कहना है कि हादसे के पीछे की वजह का पता लगने के साथ ही लापरवाही बरतने वाले फैक्ट्री संचालकों पर भी नकेल कसी जाएगी और जो जांच में दोषी पाया गया उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।।

बताया जा रहा है की इस दुर्घटना के पीछे की मुख्य वजह केमिकल रिएक्शन की वजह से हुआ धमाका थी। जिसमें अत्यंत ज्वलनशील एम.ई.के यानी मिथाइल इथाइल कीटोन कैमिकल और लिक्विड हाइड्रोजन का मिश्रण शामिल है। दुर्घटना ग्रस्त फैक्ट्री में इन दोनों कैमिलों के साथ साथ कई और कैमिकल मिलाकर कर एक वैसल में हिलाया जाता था। इसी प्रक्रिया के दौरान वैसल फट गया। और 5 फैक्ट्रियां धराशाही हो गयी और कई फैक्ट्रियों में आग भी लग गयी थी। 100 घण्टे से भी ज्यादा चले रेस्क्यू ऑपरेशन में मलबे के नीचे से 8 लोगों के शव को निकाला गया और 35 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए इतना ही नहीं के अवशेष तथा इस हादसे में नहीं मिले।