\u0939\u0930\u093F\u092F\u093E\u0923\u093E \u092E\u0947\u0902 DSP \u0915\u0940 \u0936\u093F\u0915\u093E\u092F\u0924 \u0915\u0930\u0928\u0947 \u0935\u093E\u0932\u0947 RTI \u090F\u0915\u094D\u091F\u093F\u0935\u093F\u0938\u094D\u091F \u092A\u0930 10 \u0926\u093F\u0928\u094B\u0902 \u092E\u0947\u0902 \u0939\u0941\u0906 \u0926\u0942\u0938\u0930\u093E \u0939\u092E\u0932\u093E, \u092A\u094D\u0930\u0936\u093E\u0938\u0928 \u0928\u0947 \u0938\u093E\u0927\u0940 \u091A\u0941\u092A\u094D\u092A\u0940

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. अनहोनी

हरियाणा में DSP की शिकायत करने वाले RTI एक्टिविस्ट पर 10 दिनों में हुआ दूसरा हमला, प्रशासन ने साधी चुप्पी

Yuva Haryna Jind, 06-04-2017 हरियाणा के जींद में दस दिनों के भीतर RTI एक्टिविस्ट सुनील कपूर पर दूसरी बार हमला हुआ। नकाबपोश हमलावरों ने उन्हें सड़क पर दौड़ाकर लाठियों से जमकर पीटा। दुकान में बैठे 29 वर्षीय कपूर ने जब नकाबपोश हमलावरों को अपनी ओर आते CCTV कैमरे में देखा, तो...


हरियाणा में DSP की शिकायत करने वाले RTI एक्टिविस्ट पर 10 दिनों में हुआ दूसरा हमला, प्रशासन ने साधी चुप्पी

Yuva Haryna

Jind, 06-04-2017

हरियाणा के जींद में दस दिनों के भीतर RTI एक्टिविस्ट सुनील कपूर पर दूसरी बार हमला हुआ। नकाबपोश हमलावरों ने उन्हें सड़क पर दौड़ाकर लाठियों से जमकर पीटा। दुकान में बैठे 29 वर्षीय कपूर ने जब नकाबपोश हमलावरों को अपनी ओर आते CCTV कैमरे में देखा, तो ज्वेलरी दुकान का गेट खोलकर भागने लगे। बावजूद इसके हमलावरों ने दौड़ाकर पकड़ लिया और लाठियों से जमकर पीटा।

परिवार वाले उन्हें लेकर सिविल अस्पताल पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने बेहतर उपचार के लिए दूसरी जगह रेफर कर दिया। इसके बाद परिवार के लोग एक प्राइवेट हास्पिटल में लेकर पहुंचे। जहां घुटने का ऑपरेशन होना है।
DSP रैंक के अधिकारी के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत करने के बाद यह दूसरी बार कपूर पर हमला हुआ है। RTI कार्यकर्ता के पिता ओमप्रकाश ने कहा कि उनके बेटे ने पुलिस अधिकारी का घूस लेता वीडियो तैयार कर जांच के लिए आईजी और डीजीपी को पत्र लिखा। जिस पर डीएसपी ने बीते तीन मार्च को अपने लोगों के जरिए जालसाजी और जबरन वसूली का केस दर्ज करा दिया।

ओमप्रकाश ने कहा कि 26 मार्च को पुलिस ने बिना किसी सुबूत के दोनों बेटों को गिरफ्तार कर लिया। उसी रात कुछ नकाबपोश गुंडे घर पर भेजे गए। जिन्होंने परिवार वालों को बुरी तरह पीटा। ओमप्रकाश ने कहा कि पहली बार हमले के बाद सुनील ने स्थानीय पुलिस को सुरक्षा के लिए लिखा। मगर पुलिस सुरक्षा प्रदान नहीं की गई। गुहार लगाने के बाद भी सुरक्षा न मिलने के सवाल पर इंस्पेक्टर ने कहा कि यह उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं आता।