\u0916\u0930\u0915\u0902\u0921\u093C\u093E \u0915\u0947 \u092A\u0942\u0930\u094D\u0935 \u0938\u0930\u092A\u0902\u091A \u0935 \u092E\u0939\u092E \u091A\u094C\u092C\u0940\u0938\u0940 \u0915\u0947 \u0938\u091A\u094D\u091A\u0947 \u092A\u0902\u091A\u093E\u092F\u0924\u0940 \u0915\u0943\u0937\u094D\u0923 \u0905\u0939\u0932\u093E\u0935\u0924 \u0928\u0947 \u0939\u093E\u0930\u0940 \u091C\u093F\u0902\u0926\u0917\u0940 \u0915\u0940 \u091C\u0902\u0917, \u0930\u094B\u0939\u0924\u0915 \u0915\u0947 \u0928\u093F\u091C\u0940 \u0905\u0938\u094D\u092A\u0924\u093E\u0932 \u092E\u0947\u0902 \u0932\u0940 \u0905\u0902\u0924\u093F\u092E \u0938\u093E\u0902\u0938\u0947

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. Breaking

खरकंड़ा के पूर्व सरपंच व महम चौबीसी के सच्चे पंचायती कृष्ण अहलावत ने हारी जिंदगी की जंग, रोहतक के निजी अस्पताल में ली अंतिम सांसे

Yuva Haryana, Maham खरकंड़ा के पूर्व सरपंच व महम चौबीसी का सच्चा पंचायत कृष्ण अहलावत का बीते दिन बुधवार को निधन हो गया है। मिली जानकारी के मुताबिक उन्हें कुछ दिन पहले कोरोना संक्रमण हो गया था, लेकिन कोरोना की जंग भी वो जीत गए थे, फिर उन्हें ब्लैक फंगस...


खरकंड़ा के पूर्व सरपंच व महम चौबीसी के सच्चे पंचायती कृष्ण अहलावत ने हारी जिंदगी की जंग, रोहतक के निजी अस्पताल में ली अंतिम सांसे

Yuva Haryana, Maham

खरकंड़ा के पूर्व सरपंच व महम चौबीसी का सच्चा पंचायत कृष्ण अहलावत का बीते दिन बुधवार को निधन हो गया है। मिली जानकारी के मुताबिक उन्हें कुछ दिन पहले कोरोना संक्रमण हो गया था, लेकिन कोरोना की जंग भी वो जीत गए थे, फिर उन्हें ब्लैक फंगस हो गया। जिसके बाद उनका आप्रेशन किया गया, जो कि सफल भी रहा।

लेकिन फिर अचानक उन्हें इस बीच हार्ट अटैक आया जिसका पहला झटका भी झेल गए लेकिन दूसरा झटका झेल नहीं पाए और हार्ट अटैक के कारण वो जिंदगी की ये जंग हार गए। उनका इलाज रोहतक के एक निजी अस्पताल में चल रहा था। जहां उन्होंने अंतिम सांसे ली।

अगर कृष्ण खरकड़ा के बारें में बताया जाए तो मालूम पड़ता है कि वो बहुत ही अच्छे स्वभाव वाले सामाजिक व्यक्ति थे। उनको लेकर एक कहावत बड़ी ही चर्चित थी कि वो “भाई की नहीं न्याय की कहते थे।” उनका स्वभाव ये था कि अगर सत्य बात उनके किसी अपने के भी खिलाफ है तो वो सुनते थे। अगर साधारण शब्दों में कहा जाए तो वह एक न्यायवादी व्यक्ति थे। जिसने अपने सरपंची कार्यकाल में बहुत से लोगों को न्याय दिलाने का काम किया है।